|| View in English ||

मध्यप्रदेश पॅावर ट्रांसमिशन कम्पनी लिमिटेड

( मध्यप्रदेश शासन का उपक्रम )    

"विल पॅावर टू व्हील द पॅावर"

स्वचालित मांग प्रबंधन योजना (ADMS)

        ऑटोमेटिक डिमाण्ड मैनेजमेंट प्रणाली (ADMS) योजना का क्रियान्वय :- केंद्रीय विद्युत नियामक आयोग, रेग्युलेशन - 2010 (बिन्दु क्रमांक 5.4.2(d)) के अंतर्गत राज्य भार प्रेषण केंद्र को पारेषण प्रणाली में ओवर ड्रावल को रोकने हेतु कंपनी द्वारा स्टेट ऑफ आर्ट डिमाण्ड मैनेजमेंट योजना के तहत ऑटोमेटिक डिमाण्ड मैनेजमेंट प्रणाली (ADMS) के क्रियान्वयन हेतु निर्णय लिया गया है। ऑटोमेटिक डिमाण्ड मैनेजमेंट प्रणाली के अंतर्गत मध्यप्रदेश की तीनों विद्युत वितरण कंपनियों की विद्युत मांग का नियंत्रण ट्रांसमिशन स्काडा प्रणाली के सहयोग से मध्यप्रदेश में स्थापित विभिन्न अतिउच्चदाब उपकेन्द्रों (आने वाले उपकेन्द्रो सहित) से निर्गमित 33 केव्ही संभरकों को क्रमानुसार बंद (OFF) कर स्वचालित तरीके से नियंत्रित किया जायेगा। चूंकि इस प्रणाली में संभरकों (circuit breaker) की बहाली स्वचालित तरीके से की जाती है अत: मध्यप्रदेश पॉवर ट्रांसमिशन कंपनी इस तरह की ऑटोमेटिक डिमाण्ड मैनेजमेंट प्रणाली का क्रियान्वयन करने वाली देश की प्रथम ट्रांसमिशन कंपनी बन गई है। वर्तमान में सभी अतिउच्चदाब उपकेन्द्रों में यह प्रणाली स्थापित हो चुकी है एवं शीघ्र ही इस प्रणाली को क्रियाशील किया जावेगा।

        ऑटोमेटिक डिमाण्ड मैनेजमेंट प्रणाली का क्रियान्वयन केंद्रीय विद्युत नियामक आयोग के निम्नलिखित दिशा-निर्देषों के अनुसार किया गया है :-
अ. प्रणाली की आवृत्ति 50 हर्टज से कम होने एवं 150 मे.वॉ. भार से अधिक अथवा मध्यप्रदेश के घोषित भार से 12 प्रतिशत अधिक भार होने पर, इनमें से जो भी कम हो एवं 15 मिनट तक प्रणाली में अनवरत बने रहने पर ऑटोमेटिक डिमाण्ड मैनेजमेंट प्रणाली (ADMS) क्रियाशील होगी एवं अति उच्चदाब उपकेंद्रों से निर्ममित 33 केव्ही संभरकों को क्रमवार बंद (OFF) करेगी।
ब. प्रणाली में हिस्से से 100 मेगावॉट 15 मिनट तक लगातार कम होने अथवा तत्काल 150 मेगावॉट कम होने पर, सभी 33 केव्ही बंद (OFF) संभरकों को प्रथम बंद एवं प्रथम सामान्य आधार पर चालू (ON) कर दिया जावेगा।

        ऑटोमेटिक डिमाण्ड मैनेजमेंट प्रणाली (ADMS) योजना के अंतर्गत सभी वितरण कंपनियों में स्थित 33 केव्ही संभरकों के समूहों को स्वचालित रूप से क्रमानुसार बंद एवं एक घण्टे उपरांत चालू किया जावेगा। साथ ही साथ अन्य संभरकों के समूह उक्त संभरकों के स्थान पर बंद होंगे।