|| View in English ||

मध्यप्रदेश पॅावर ट्रांसमिशन कम्पनी लिमिटेड

( मध्यप्रदेश शासन का उपक्रम )    

"विल पॅावर टू व्हील द पॅावर"

स्काडा (SCADA) सिस्टम

          विद्युत मांग में असाधारण वृद्धि, विद्युत उत्पादन में निजी क्षेत्र की सहभागिता एवं खुली पहुंच (OPEN ACCESS) प्रणाली के क्रियान्वयन के परिणामस्वरूप मध्यप्रदेश में पारेषण संरचना का द्रुत गति से विस्तार हो रहा है जिसके फलस्वरूप, प्रदेश की पारेषण संरचना अत्यधिक जटिल हो गई है एवं भार प्रबंधन का कार्य कठिन होता जा रहा है। मध्यप्रदेश की पारेषण संरचना में हुये विस्तार के कारण, प्रणाली का स्वचालित रूप से ऑनलाइन मॉनिटरिंग एवं जटिल पारेषण संरचना का नियंत्रण अत्यंत आवष्यक हो गया है। साथ ही प्रदेश के लगभग 73 प्रतिशत अति उच्चदाब उपकेंद्रों को निजी क्षेत्रों द्वारा संचालित किये जाने के कारण राज्य पारेषण प्रणाली के संचालन एवं संधारण हेतु उत्पन्न चुनौतियों का सामना करने के लिये भी एक पृथक स्वचालित नियंत्रण प्रणाली का होना आवश्यक है। इस योजना के अंतर्गत जबलपुर, भोपाल एवं इंदौर में ट्रांसमिशन स्काडा कण्ट्रोल सेंटर्स की स्थापना की जा चुकी है एवं इन्हें मध्यप्रदेश में स्थापित लगभग सभी अति उच्चदाब उपकेंद्रों से संबद्ध किया जा चुका है। स्काडा प्रणाली के क्रियान्वयन से कंपनी की पारेषण संरचना का नियंत्रण निश्चित रूप से सुदृढ़ होगा एवं पारेषण संरचना में 99 प्रतिशत से अधिक उपलब्धता प्राप्त की जा सकेगी। उपरोक्त योजना के क्रियान्वित होने पर मध्यप्रदेश राज्य की ट्रांसमिशन प्रणाली में स्काडा एवं इसके माध्यम से एडीएमएस की स्थापना कर पारेषण प्रणाली का नियंत्रण, संचालन एवं ऑन लाईन मॉनिटरिंग करने वाला देश में प्रथम राज्य होगा। स्काडा प्रदेश में स्थित पारेषण संरचना की ऑनलाईन मॉनिटरिंग एवं नियंत्रण हेतु केंद्रीकृत तंत्र प्रणाली है। इस प्रणाली के अंतर्गत मध्यप्रदेश के विभिन्न अति उच्चदाब उपकेंद्रों में स्थापित परिणामित्रों एवं संभरकों से संबंधित आंकड़े स्वचालित तरीके से मध्यप्रदेश में स्थापित 3 केंद्रीय नियंत्रण केंद्रों यथा जबलपुर, भोपाल एवं इंदौर में उपलब्ध होंगे।इस प्रणाली में रिमोर्ट टर्मिनल यूनिट (आर.टी.यू.) द्वारा संबंधित आंकड़े अर्जित कर संचार तंत्र द्वारा केंद्रीय नियंत्रण केंद्रों में भेजे जाते हैं। मध्यप्रदेश पॉवर ट्रांसमिशन कंपनी द्वारा जबलपुर, भोपाल एवं इंदौर शहरों में स्काडा नियंत्रण कक्षों के साथ-साथ मध्यप्रदेश में स्थापित लगभग सभी अति उच्चदाब उपकेंद्रों में रिमोर्ट टर्मिनल यूनिट (आर.टी.यू.) स्थापित किये जा चुके हैं । >>>और पढ़े

विशिष्ट आगंतुकों की टिप्पणियां

“ Sincerly, a Sysytem that makes us proud. ”  
                                             - Shri Iqbal Singh Bains, Addl. Chief Secratary, Energy Department, Govt. of MP

“ The SCADA Control centre of Transmission by the Transco is the State-of-the-Art facility commissioned at Jabalpur. Perhapes, first in the country, the facility is maintained excellently and the System explained by the operation Engineer who know their job. I wish them great success in their effort to monitor the System at Substation level. My good wishes.”                           - Shri V.S. Varma, Member CEA, Former Member CERC

“ Very Happy & Honoured to visit this landmark facility of India. Looking forward to seeing more of this operational in other states as well towards a more integrated national energy System.”                           - Nelson Guevera, Asian Development Bank